बहादुर बालक की कहानी – Brave children’s story in Hindi


Brave children’s story in Hindi


Brave children’s story in Hindi – बात उस समय की हैं जब भारत में अंग्रेजों का राज था। गुजरात के एक गांव में बल्लभ नाम का एक बालक रहता था।

बल्लभ को पढ़ने का बहुत शौख था, पाठशाला गांव से कुछ दूर थी और वहां जाने का रास्ता भी उबड़ – खाबर था। बल्लभ प्रतिदिन उसी रास्ते से पाठशाला जाता था।

एक दिन की बात हैं। बल्लभ अपने साथियों के साथ उसी रास्ते से पाठशाला जा रहा था। तभी उसके पैर में एक नुकीला पत्थर लगा और बहुत सारा खून बहने लगा।

Brave children's story in Hindi
Brave children’s story in Hindi

उसने सोचा की यह पत्थर मुझे इतना घायल कर सकता हैं तो ना जाने पुरे दिन में यह कितनों को चोट पहुँचाता होगा।

उसने अपनी चोट की परवाह ना करते हुये उसे निश्चय कर लिया की जबतक वह इस नुकीली पत्थर को उखड़ फेंक नहीं देता तबतक वह यहाँ से नहीं जाऊँगा।

वह पत्थर निकालने का प्रयास करने लगा, लेकिन पत्थर का बहुत बड़ा भाग मिटटी के अंदर था जो बाहर निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था।

मगर बालक बल्लभ भी हारने वालों में नहीं था, वह कोशिश करता रहा उसका पूरा शरीर पसीनों से भर चूका था। उसके सभी साथी उसे छोड़ पाठशाला जा चुके थे।



फिर भी उसने हिम्मत नहीं हारी और लगातार कोशिश रहा और अंत में उसकी हिम्मत जीत गयी. उसने पत्थर को निकाल फेंका। वहाँ बने गड्ढे को मिटटी से भर दिया फिर वह पाठशाला की तरफ चला।

उसके पैर से खून निकल रहा था, इसलिये वह पाठशाला देर से पहुँचा। कक्षा में पढ़ा रहे मास्टर जी ने उसे विलम्ब से आने का कारण पूछा।

बल्लभ ने उन्हें पूरी बातें बतायी, कक्षा के बच्चें ने भी बल्लभ का साथ दिया। यह सुनकर मास्टर जी ने बल्लभ को गले से लगा लिया। उसके चोट की मरहम – पट्टी किया और बड़े ही गर्व से कहा।

बेटा सब लोग रूकावट से बचकर निकलने का रास्ता ढूंढते हैं

लेकिन तुमने तो रास्ते से रूकावट को ही हटा दिया

वह बालक और कोई नहीं बल्कि स्वतंत्र भारत के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल थे, जिन्होंने बड़े होकर देश से अंगेजों को निकालकर बाहर फेंका और पुरे भारत को एकत्रित किया लोग उन्हें लौह पुरुष के नाम से जानते हैं।

************

दोस्तों ऐसी साहस से भरपूर प्रेरणादायक कहानियां (Brave children’s story in Hindi) को पढ़ने से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता हैं। इन कहानियों में बहुत ही अच्छा संदेश होता हैं, जो बच्चों के दिमागी विकास के लिये बहुत जरुरी हैं।

RELATED CHILDREN’S STORY IN HINDI –

Two Children story in Hindi

sahasi balak story in hindi

Motivational Story in Hindi

Educational story in hindi

Thanks for reading Brave children’s story in hindi

About bhartihindi

भारती हिंदी पर प्रतिदिन नयी नयी रोचक कहानियाँ और महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की जाती हैं, हम अपने सभी पाठकों का दिल धन्यवाद करते हैं।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *