बच्चों की कहानी : स्वार्थी दानव (bachon ki kahani in hindi)


एक दानव था, उस दानव का एक बहुत ही बड़ा और सुन्दर बगीचा था। उसमें नरम, नरम घास की दरियाँ बिछी हुयी थी। क्यारियों में रंग बिरंगे फूल खिले हुये थे।
bachon ki kahani in hindi
बच्चों की कहानी

विद्यालय से लौटते समय सभी बच्चें दानव के बगीचे में खेलने जाते थे। उस बगीचे में आम के कई पेड़ थे। जिसमें गर्मियों में मीठे आम लगते थे।
कुछ ही दिनों में वो आम के पेड़ों में फल लगने वाले थे। इन पेड़ों की डाली पर बैठकर चिड़ियाँ गाना गाती थी।
कई बार अपने खेल को भूलकर नन्हें बच्चें भी उनके संगीत में खो जाते थे।
अभी दानव अपने मित्र के घर गया हुआ था। कुछ सप्ताह बाद जब वह वापस अपने घर लौटा तो उसने अपने बगीचे में बच्चों को खेलते देखा।
बच्चों को देख दानव गुस्से से आग बबुला हो गया। वो तेज आवाज में बोला : तुमसब यहाँ क्या कर रहे हो, ये मेरा बगीचा हैं, यहाँ कोई नहीं खेल सकता हैं।
उसकी भयानक आवाज सुनकर बच्चें वहाँ से चले जाते हैं।
उसके बाद दानव ने बगीचे के चारों तरफ एक दीवार बना दी, और उसके ऊपर लिखवा दिया :- अंदर आना मना हैं।
छोटे बच्चों को अब सड़क पर ही खेलना पड़ता था। उन्हें बगीचे की बहुत याद आ रही थी।
कुछ दिन बाद वसंत ऋतु आयी, पेड़ों में नई कोपलें निकलने लगे, फूल खीलने लगे अब चारों ओर सुनहरी हवा बहने लगी।
लेकिन दानव के बगीचे के पेड़ उदास खड़े थे, फूल मुरझा गये, और घास भी सूखने लगी थी। अब दानव के बगीचे में कोई चिड़ियाँ नहीं आती थी।
दानव हमेशा सोचता कि कब बगीचे में वसंत ऋतु आयेगी। कब पेड़ों में फल लगेंगे, लेकिन वसंत दानव के बगीचे में नहीं आया, उसके सभी पेड़ उदास खड़े थे।
एक दिन दानव घर में लेटा हुआ था। अचानक उसके कान में किसी पक्षी के गाने की आवाज सुनायी दिया, वह झट से उठा और देखा कि एक चिड़ियाँ उसके खिड़की पर बैठी थी।
बहुत दिनों से दानव ने किसी पक्षी की आवाज नहीं सुनी थी। उसे चिड़ियाँ का संगीत अच्छा लग रहा था।
वह उठकर बगीचे में गया, दानव ने अपने बगीचे में एक अनोखा दृश्य देखा।
उसने देखा कि दीवार का एक कोना टूट चुका हैं। बच्चें उसके बगीचे में खेल रहे हैं। पेड़ों की पत्तियाँ बच्चों को देख झूम रही हैं।



उसका बगीचा बच्चों की खिलखिलाहट और चिड़ियों के चहकने से खिल उठा हैं।

लेकिन बगीचे का एक कोना अभी भी उदास था। वहाँ एक बहुत ही छोटा बच्चा था, वह पेड़ की डाली को पकड़ना चाहता था। पेड़ भी अपनी डाली झुकता, लेकिन बच्चा उसे पकड़ नहीं पा रहा था।

यह देख उस दानव का हृदय पिघल गया। उसने कहा : में कितना स्वार्थी हूँ। मैंने इन बच्चों को बगीचे में खेलने से मना कर दिया था। जिससे मेरा पूरा बगीचा उदास हो गया था।

दानव उस छोटे बच्चें के पास गया। उसे आते देख बच्चें डर गये, लेकिन दानव ने प्यार से उस छोटे बच्चें को गोद में उठाया और उसे उस डाली पर बैठकर झुलाया।

बच्चें के झूलते ही वह पेड़ भी झूम उठा, अब उसका पूरा बगीचा झूम रहा था। दानव ने अपने बगीचे की दीवार दिया।

आज वहाँ से गुजरते लोगों ने देखा कि स्वार्थी दानव भी बच्चों के साथ खेल रहा था। सभी बच्चें उसके आस पास खेल रहे थे।

पेड़ पौध सभी झूम रहे थे, चिड़ियाँ गीत गा रही थी। सभी खुशी से हँस रहे थे, और सबसे तेज हँसी थी उस स्वार्थी दानव की थी।

ये कहानियाँ भी पढ़ें –

  1. वरदराज की कहानी 
  2. राजकुमार की कहानी 
  3. किसान के चार बेटें की कहानी
  4. कबूतर और बाज की कहानी
  5. तितली के संघर्ष की कहानी 
Thanks for reading – bachon ki kahani in hindi

About bhartihindi

दोस्तों BhartiHindi.com अपने पाठकों के लिए हिंदी कहानी, कविता, रोचक जानकारी और अन्य लेख उपलब्ध कराती हैं। अगर आप हमारे सभी लेख सबसे पहले पढ़ना चाहते है तो हमारे Facebook page को Like करके भी हमसे जुड़ सकते हैं , जिससे आपको हमारे सभी नए लेख की जानकारी मिलती रहेगी....धन्यवाद।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *