बिल्ली और बंदर की कहानी – Billi Aur Bandar Ki Kahani In Hindi


बिल्ली और बंदर की कहानी

बच्चों चलिए आज बिल्ली और बंदर की कहानी पढ़ते हैं। नदी किनारे सूंदरपुर नाम का एक छोटा सा गांव था। उस गांव में दो बिल्लियाँ रहती थी, उन दोनों में काफी गहरी दोस्ती थी।

वे साथ में खाना ढूँढने जाया करती थी और जो कुछ भी मिलता उसे आपस में बड़े ही प्यार से बाँट कर खाती थी।

एक दिन की बात हैं, दोनों बिल्लियाँ गांव में खाना ढूंढ रही थी, उन्हें एक किसान के घर से रोटी मिली, रोटी को देखकर दोनों बिल्लियाँ बहुत खुश हुयी।

Billi Aur Bandar Ki Kahani In Hindi

उन्होंने रोटी को दो टुकड़ो में बाँट लिया और रोटी खाने के लिए एक पेड़ के निचे आयी, लेकिन उनमे से एक बिल्ली को उसकी रोटी का टुकड़ा छोटा लग रहा था।

वो दूसरी बिल्ली से बोली की मेरी रोटी का टुकड़ा छोटा हैं, तुम अपने टुकड़े में से थोड़ा मुझे दो।

लेकिन दूसरी बिल्ली को भी उसका टुकड़ा छोटा लग रहा था। अब दोनों बिल्लियाँ आपस में झगड़ने लगी।
वहाँ एक पेड़ पर एक बंदर बैठा इनकी बातें सुन रहा था, बंदर बोला : सुनो बिल्लियां , तुम्हें लगता हैं कि रोटी का टुकड़ा छोटा हैं तो में तराजू से उसे दोनों में बराबर भाग में बांट सकता हूँ।
बिल्लियाँ बंदर के नजदीक गयी और बोली : ठीक हैं, अब तुम्हीं इसे बराबर भाग में बांट दो।
बन्दर एक तराजू लाया और उसने दोनों टुकड़ों को तराजू के दोनों तरफ रखा और जैसे ही उसनें तराजू उठाया तराजू एक तरफ झुक गया।
बंदर ने उसे बराबर करने के लिए थोड़ा तोड़ा और खुद खा लिया। और वापस तराजू उठाया।
लेकिन इस बार तराजू दूसरी तरफ झुक गया, बंदर ने उसे बराबर करने के लिए फिर थोड़ा तोड़ खा लिया।
कुछ देर तक बंदर ऐसा करता गया और अब तराजू में छोटा सा टुकड़ा शेष रह गया था।
अब उन बिल्लियों से रहा नहीं गया, उन्होंने पूछा : तुम ये कैसा बंटवारा कर रहे हो, अब तो थोड़ी ही रोटी बची हैं।



इसपर बंदर ने कहा : ठीक हैं। लेकिन मैंने जो इतना मेहनत किया उसकी मजदूरी तो होगी।

इसलिए यह बची रोटी का टुकड़ा मेरा हुआ और बंदर तराजू में जो रोटी बची थी वो लेकर पेड़ पर चढ़ गया। दोनों बिल्लियाँ बस देखती रह गयी, उन्हें कुछ भी खाने को नहीं मिला।

अब दोनों बिल्लियाँ यह समझ गयी की आपस में झगड़ा करने से अपना ही नुकशान होता हैं। इसका लाभ कोई अन्य उठाता हैं। बाद में उन्होंने कभी भी आपस में झगड़ा नहीं किया, और जो भी मिलता उसे बहुत ही प्यार से खाने लगी। 
शिक्षा : देखा बच्चों इसलिए कभी भी आपस में झगड़ा नहीं करना चाहिए।

यह दस रोचक कहानियाँ भी पढ़िये –


दोस्तों यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट में बता सकते हैं। अगर आप भारती हिंदी की सबसे रोचक कहानियों की लिस्ट देखना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें – बच्चों की 51 रोचक कहानियाँ  इस बंदर और बिल्ली की कहानी शेयर करना चाहते हैं तो इसे शेयर जरूर करें।

About bhartihindi

दोस्तों BhartiHindi.com अपने पाठकों के लिए हिंदी कहानी, कविता, रोचक जानकारी और अन्य लेख उपलब्ध कराती हैं। अगर आप हमारे सभी लेख सबसे पहले पढ़ना चाहते है तो हमारे Facebook page को Like करके भी हमसे जुड़ सकते हैं , जिससे आपको हमारे सभी नए लेख की जानकारी मिलती रहेगी....धन्यवाद।

View all posts by bhartihindi →

One Comment on “बिल्ली और बंदर की कहानी – Billi Aur Bandar Ki Kahani In Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *