मोर के बारे में 25 आश्चर्यजनक तथ्य – Facts in hindi


Facts about peocock in hindi

Facts about peocock in Hindi

1) मोर देशी तीतर परिवार का एक बड़ा और चमकीला पक्षी हैं।

2) मोर का मुख्य भोजन अनाज,किट -पतंग,बीज,साँप,छिपकिली हैं।

3) मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी हैं।

4) मोर भारत के पड़ोसी देश म्यांमार का भी राष्ट्रीय पक्षी हैं।

5) 1963 में मोर को भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया था।

6) मोर लम्बे तथा ऊंचे पेड़ो पर अपना बसेरा बनाते हैं।

7) नर मोर के पास लम्बी पूंछ होती हैं , जिसे फैला कर वो नाचते हैं।

8) एक नर मोर चोंच से पूँछ तक 40 से 46 इंच का होता हैं , और वजन लगभग 4 से 5 किलो होता हैं।

9) मादा मोरनी की लंबाई 36 से 38 इंच होती हैं , और वजन 2.5 से 3 किलो का होता हैं।

10) मादा मोरनी के पास पूछ नहीं होती हैं।

11) मोर अपने पंखों को फैला और नाच तथा आवाज निकाल कर मोरनी को रिझाते हैं।

12) मादा मोरनी छोटे समूहों में चार चुगती हैं जिसे मस्टर कहते हैं,इस समूह में 3 से 7 मोरनी होती हैं।



13) मोर अपने घोंसलें पेड़ो की डालियों , ऊंचे झाड़ियों में और कभी कभी किसी मकान में बने कोठारों में बनाते हैं।

14) मोरनी 4 से 8 अंडे देती हैं।

15) अंडों की देखभाल केवल मोरनी ही करती हैं।

16) मोरनी के अंडे लगभग 30 दिन में फूटते हैं।

17) जंगल मे मोर की उम्र लगभग 15 साल होती हैं।

18) अगर मोर को चिड़ियाघर में रखें तो मोर 25 साल तक जीवित रहता हैं।

19) मोर को संस्कृत में मयूर कहते हैं।

20) भगवान श्री कृष्ण के मुकुट में मोर पंख लगा रहता हैं।

21) भारतीय संस्कृति में मोर का खास महत्व हैं मंदिरों , लोक गीत – संगीत , चित्रकला , काव्य में मोर को उचित स्थान प्राप्त हैं।

22) तख्त – ऐ -ताऊस का मतलब मोर सिंहासन होता हैं, जिसे मुगल बादशाह शाहजहाँ ने बनवाया था ।

23) मोर अपनी तेज आवाज के लिए प्रसिद्ध हैं , लेकिन यह मोर के शिकार का कारण बन जाता हैं, शिकारी मोर की आवाज सुन उसका पता लगा लेते हैं।

24) भारत मे मोर के शिकार पर पूर्णतया प्रतिबंध हैं।

25) यह भारतीय वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत संरक्षित हैं।

दोस्तों उम्मीद करता हूँ कि ये जानकारी आपको अच्छी लगी होगी , अच्छी लगी हो तो कृपया एक शेयर जरूर करें .

About bhartihindi

भारती हिंदी पर प्रतिदिन नयी नयी रोचक कहानियाँ और महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की जाती हैं, हम अपने सभी पाठकों का दिल धन्यवाद करते हैं।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *