ख़रगोश की योग्यता – moral story in hindi



 moral story in hindi

एक जंगल में एक ख़रगोश रहता था | वह रोज हरी -हरी घास खाने के लिए  बिल से बाहर निकलता था और  इधर – उधर  घूमता और नरम – नरम घास खाता था |

एक दिन जब वह घास खा रहा था तभी तभी एक भेड़िया उस पर झपटा , लेकिन पास में एक झाड़ी में ख़रगोश
जा छुपा और वह बच गया |

this is an image of moral story
moral story
वह भेड़िया ख़रगोश को मारने के लिए उसको ढूंढता रहता था | ख़रगोश भेड़िये से बहुत डर गया उसका बिल से 
निकलना भी मुश्किल हो गया था |
उस जंगल में एक बरगद का बुढा पेड़ था वह बहुत ही ज्ञानी था , जब भी जंगल में किसी जानवर को कोई मुश्किल आती तो वह उस पेड़ से जाकर पूछता था |

this is an image of moral story
moral story
एक दिन ख़रगोश उस बरगद पेड़ के पास गया और अपनी मुश्किल बतायी |
बरगद ने कहा – में कई वर्षो से खड़ा हूँ | जंगल में तुम्हारी मदद भी जल्दी कोई नही करेगा लेकिन अगर तुम चाहो तो तुम उस भेड़िये से बच सकते हो 
ख़रगोश बोला – लेकिन वह मुझ से बहुत बड़ा जानवर है में उसका मुकाबला कैसे करूँगा..?
बरगद बोला – तुम उससे लड़ाई मत करो लेकिन तुम अपनी योग्यताओ को पहचानों , तुम ख़रगोश हो भेड़िया 
तुम्हारे जितना तेज नही दौर सकता,
इसलिए तुम सावधान होकर घर खाया करो और जैसे ही वह भेड़िया आये तुम भाग जाया करो वह तुम्हे कभी भी 
नहीं पकड़ सकता |

this is an image of moral story
moral story
अब ख़रगोश बिना डरे घास खाता और जब वह भेड़िया आता तो भाग जाता था | कुछ दिन तक जब भेड़िया ख़रगोश को नही पकड़ सका तो वह थक कर समझ गया की अब में ख़रगोश को कभी नही पकड़ सकता |
ख़रगोश जंगल में ख़ुशी – ख़ुशी घुमने लगा और नरम – नरम घास खाने लगा |
देखा दोस्तों – हर किसी के पास कुछ अपनी योग्यता होती है उसे जानिए और जब भी मुश्किल आये उसका उपयोग करिये | आप को कहानी कैसी लगी कृपया कमेंट में बताये |

Leave a Comment