कैसे भगवान बुद्ध के उपदेश से अंगुलीमाल ने शांति का मार्ग अपनाया


एक बार भगवान बुद्ध जंगल के रास्ते से कहीं जा रहे थे | उन्हे रास्ते में अंगुलीमाल डाकू ने घेर लिया |

भगवान बुद्ध ने पूछा – तुम कौन हो ..?
अंगुलीमाल बोला – में अंगुलीमाल डाकू हूँ | मैंने प्रतिज्ञा ली हैं की में सौ लोगों की हत्या कर के उनकी अंगुली का माला पहनूँगा |

inspirational story
भगवान बुद्ध के उपदेश से अंगुलीमाल ने शांति का मार्ग अपनाया
और अब तक में ने निन्यानवे लोगों को मार दिया हैं , अब तुम्हें मार कर मेरी प्रतिज्ञा पूरी हो जायेगी |
भगवान बुद्ध मुस्कुरा रहे थे |
यह देख अंगुलीमाल बोला क्या तुम्हें मुझ से डर नहीं लगता |
भगवान बुद्ध के कहा – मुझे डर नहीं लगता क्यों की में जनता हूँ |  जिसने इस पृथ्वी पर जन्म लिया हैं उसे एक दिन मारना ही हैं | कोई भी इस पृथ्वी पर अमर नहीं हैं |
लेकिन तुम जीवित रहकर भी शांति से नहीं रह सकोगे | तुम्हें हमेशा डर सतायेगा, तुम्हें अपने आप से डर लगेगा|
अंगुलीमाल बोला – तुम यह क्या कह रहे हो में किसी से नहीं डरता मुझ से सब डरते हैं |
भगवान बुद्ध ने कहा – तुम जो हिंसा फैला रहे हो , निर्दोष लोगों को मार रहे हो , यह सब तुम्हारे ऊपर पाप बन 
कर बरसेगी तुम्हारी जिन्दगी से शांति दूर चली जायेगी , तुम हमेसा परेशान रहोगे |



insprational stories
भगवान बुद्ध के उपदेश से अंगुलीमाल ने शांति का मार्ग अपनाया
यह सुन अंगुलीमाल समझ गया उसने बोला भगवन में आपकी बात समझ गया|
दुसरो को डरा कर और दुःख देकर में शांति से नही रह सकता इसलिए मुझे कोई उपाय बताये जिससे में अपने पाप का प्राश्चित कर सकूँ |
भगवान बुद्ध ने कहा – तुम शांति का मार्ग अपनाओ , लोगों की सहायता करो और सत्य की राह पर चलो |
उसके बाद अंगुलीमाल बुद्ध के बताये मार्ग पर चलने लगा और इस तरह उस डाकू ने शांति का मार्ग अपना लिया |

Related stories 

About bhartihindi

भारती हिंदी पर प्रतिदिन नयी नयी रोचक कहानियाँ और महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की जाती हैं, हम अपने सभी पाठकों का दिल धन्यवाद करते हैं।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *