panchantantra ki kahaniya – सारस और भेड़िया


एक भेड़िया था | एक दिन उसे जंगल में एक मरा हुआ हिरन दिखा , भेड़िया मरे हुए हिरन का मांस खाने लगा ,

 तभी उसके गले में एक हड्डी अटक गई | भेड़िये को लगा की अब तो बचना मुश्किल हैं |

fox is a animal
panchantantra ki kahaniya

 वह दर्द से परेसान हो गया तभी उसे एक सारस दिखा  भेड़िया भागते – भागते सारस के पास गया और

बोला – मेरे दोस्त सारस तुम अपनी चोंच से हमारे गले की हड्डी निकाल दो नहीं तो में मर जाऊंगा ,

अगर तुम मेरे गले की हड्डी निकाल दोगे तो में तुम्हें इनाम दूंगा |
सारस को भेड़िये पर  दया आ गयी , उसने अपना चोंच भेड़िये के गले में डाला और हड्डी निकाल दिया |



भेड़िया ठीक हो गया |

सारस बोला – भेड़िया अब मेरा इनाम दो मैंने तुम्हारी मदत की !!

saras is a birad
pachantantra ki kahaniya

भेड़िया बोला – सारस मैंने तुम्हें जिन्दा छोड़ दिया | जब तुम्हारा सर मेरे मुंह में था तो में उसे दबा भी सकता था |

इसलिए में कोई इनाम नहीं दूंगा |

सिख – जो नेकी के लायक नहीं हो उसकी मदत नही करनी चाहिए|
Also read>>राक्षस और झील | Best moral story in hindi

About bhartihindi

भारती हिंदी पर प्रतिदिन नयी नयी रोचक कहानियाँ और महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की जाती हैं, हम अपने सभी पाठकों का दिल धन्यवाद करते हैं।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *