moral story – कबूतर और चूहा



                                                        Best moral story

बहुत पुरानी बात हैं | एक गाँव में एक बहेलिया रहता था | वह रोज जंगल जाकर अपना जाल बिछाता था |

एक दिन उसने अपना जाल एक बरगद के पेड़ के नीचे बिछाया और बहुत सारे दाने डाल दिए ,

 जब कबूतरों का झुंड वहाँ से गुजरा तो देखा की बहुत सारे दाने बिखरे हैं |

 झुंड का एक कबूतर बोला – देखो भाइयो हम कितनी देर से दाना तलाश रहे थे , अब मिला…… बहुत भूख लगी है जल्दी चलो दाना खाते हैं |

moral story is a good way to understand
moral story

तभी दूसरा कबूतर भी बोला – हाँ चलो …जल्दी चलो |

उस झुंड में एक बहुत ही बूढा और अनुभवी कबूतर भी था |

बुढे कबूतर ने बोला – रुको कोई मत जाओ | वहां किसी ने जाल बिछाया होगा नही तो जंगल में इतना दाना एक ही जगह पर क्यों गिरा रहेगा |

तभी एक कबूतर बोला – आप बुढे हो वहां  कोई जाल नही हैं | चलो भाइयो हम चलते हैं इन्हें छोड़ दो |

और सभी कबूतर चले गए | वे दाना चुनने लगे और खाने लगे तभी उन्हें ऐहसास हुआ की उनका चंगुल किसी

चीज में फंसा हैं | के अपना पंख फरफराने लगे लेकिन वे जाल में फंस चुके थे |

बुढा कबूतर डाल पे बैठ कर यह सब देख रहा था |

बुढा कबूतर जाल के पास गया और बोला – देखा मैंने बोला था यहाँ जाल हो सकता हैं | अब सुनो मैं जो बोलता हूँ वो करो |

तुम सुब एक साथ अपना पंख फरफराओ |

सभी ने एक साथ अपना पंख फर्फराया और वे जाल के लेकर उड़ गये | अब बुढ़े कबूतर ने उन्हें एक चूहे के बिल

 के पास ले गया और चूहे से बोला – मित्र तुम अपने दांतों से इस जाल को काट दो |

mouse is a domestic animal
moral story mouse image

चूहे ने अपने मित्र की बात मानी और उनका जाल काट दिया |

सारे कबूतर उड़ गए |

सिख –  दोस्तों हमेशा अपने से बड़ो की बात माननी चाहिए | और एक साथ मिलकर करने से कोई भी काम आसान हो जाता हैं जैसे उन कबूतरों ने किया इसीलिए कहते हैं …. एकता में बल होती हैं | 

Also read>> सारस और भेड़िया

Leave a Comment