moral story – कबूतर और चूहा


                                                        Best moral story

बहुत पुरानी बात हैं | एक गाँव में एक बहेलिया रहता था | वह रोज जंगल जाकर अपना जाल बिछाता था |

एक दिन उसने अपना जाल एक बरगद के पेड़ के नीचे बिछाया और बहुत सारे दाने डाल दिए ,

 जब कबूतरों का झुंड वहाँ से गुजरा तो देखा की बहुत सारे दाने बिखरे हैं |

 झुंड का एक कबूतर बोला – देखो भाइयो हम कितनी देर से दाना तलाश रहे थे , अब मिला…… बहुत भूख लगी है जल्दी चलो दाना खाते हैं |

moral story is a good way to understand
moral story

तभी दूसरा कबूतर भी बोला – हाँ चलो …जल्दी चलो |

उस झुंड में एक बहुत ही बूढा और अनुभवी कबूतर भी था |

बुढे कबूतर ने बोला – रुको कोई मत जाओ | वहां किसी ने जाल बिछाया होगा नही तो जंगल में इतना दाना एक ही जगह पर क्यों गिरा रहेगा |

तभी एक कबूतर बोला – आप बुढे हो वहां  कोई जाल नही हैं | चलो भाइयो हम चलते हैं इन्हें छोड़ दो |



और सभी कबूतर चले गए | वे दाना चुनने लगे और खाने लगे तभी उन्हें ऐहसास हुआ की उनका चंगुल किसी

चीज में फंसा हैं | के अपना पंख फरफराने लगे लेकिन वे जाल में फंस चुके थे |

बुढा कबूतर डाल पे बैठ कर यह सब देख रहा था |

बुढा कबूतर जाल के पास गया और बोला – देखा मैंने बोला था यहाँ जाल हो सकता हैं | अब सुनो मैं जो बोलता हूँ वो करो |

तुम सुब एक साथ अपना पंख फरफराओ |

सभी ने एक साथ अपना पंख फर्फराया और वे जाल के लेकर उड़ गये | अब बुढ़े कबूतर ने उन्हें एक चूहे के बिल

 के पास ले गया और चूहे से बोला – मित्र तुम अपने दांतों से इस जाल को काट दो |

mouse is a domestic animal
moral story mouse image

चूहे ने अपने मित्र की बात मानी और उनका जाल काट दिया |

सारे कबूतर उड़ गए |

सिख –  दोस्तों हमेशा अपने से बड़ो की बात माननी चाहिए | और एक साथ मिलकर करने से कोई भी काम आसान हो जाता हैं जैसे उन कबूतरों ने किया इसीलिए कहते हैं …. एकता में बल होती हैं | 

Also read>> सारस और भेड़िया

About bhartihindi

भारती हिंदी पर प्रतिदिन नयी नयी रोचक कहानियाँ और महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की जाती हैं, हम अपने सभी पाठकों का दिल धन्यवाद करते हैं।

View all posts by bhartihindi →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *